चूहों से छुटकारा पाने के तरीके

जहरीले कीटनाशक हमारे लिए हानिकारक होने के साथ-साथ हमारे पालतू जानवरों के लिए हानिकारक हो सकते है। इसलिए, हम चूहों से छुटकारा पाने के लिए सरल और प्राकृतिक घरेलू उपचार अपना सकते हैं । घरेलू उपचार सुरक्षित होते हैं क्योंकि वे प्रभावी होने के साथ-साथ नॉनटॉक्सिक भी होते हैं।

पुदीना

चूहों में सूघने की शक्ति तीव्र  होती है। हम पुदीने की खुशबू को ताज़ा और सुखद मानते हैं, जबकि यह चूहों को पसंद नहीं होती है।.

हमें चाहिए : कुछ कॉटन बॉल्स और पुदीने का तेल।

प्रत्येक रुई की बॉल पर पेपरमिंट के तेल की 25-30 बूंदें लगाएं और इसे अपने घर के आसपास रखें। जब बदबू कम हो रही हो तो दूसरे कॉटन बॉल तेल लगाकर रख दें। आप पेपरमिंट  तेल के स्थान पर   मिन्टी टूथपेस्ट या पेपरमिंट पत्तियों को भी रख सकते हैं ।

उल्लू का पंख

चूहों के कुछ प्राकृतिक शिकारी हैं जिनमें उल्लू और सांप शामिल हैं। हालाँकि, हम उन्हें तो घर नहीं ला सकते हैं लेकिन हम चालाकी कर सकते हैं  और चूहों के छेद के पास कुछ उल्लू के पंखरख सकते हैं । ये पंख सस्ते और उपयोग में सरल हैं। ये  चूहों के लिए एक अद्भुत विकर्षक के रूप में कार्य करते हैं।

काली मिर्च

काली मिर्च की बहुत तेज गंध होती है। यह गंध चूहों को बिलकुल भी पसंद नहीं होती है। यह उनके लिए  एक उत्कृष्ट विकर्षक के रूप में कार्य करती  है।चूहों के निवास स्थानों के आसपास थोड़ी काली मिर्च  छिड़क दें।

तेज पत्ता

तेज पत्ती में एक सुगंधित गंध होती है जो आमतौर पर चूहों को आकर्षित करती है। वे इन्हे खाने की कोशिश करते हैं ।तेज पत्ती  में द्वितीयक मेटाबोलाइट्स होते हैं जो चूहों के लिए विषाक्त होते हैं।अपने घर के आस पास इनके बिल के पास और कोनों में  तेज पत्तियों को रखें

प्याज

प्याज में तीखी गंध होती है। यह गंध चूहों के लिए सहनीय नहीं है। जैसे ही वे प्याज को सूंघते हैं, वे दूर जगहों पर भागने की कोशिश करते हैं। यह सबसे कुशल उपचारों में से एक है।

 प्याज के टुकड़ों को काटें और इसे जहाँ चूहे हों उन क्षेत्रों के आसपास रखें। प्याज को हर दिन बदलने की कोशिश करें क्योंकि वे समय के साथ सड़ते लगते हैं।

गाय का गोबर

गाय के गोबर की खाद एक प्राकृतिक रूप से चूहे मारने की दवा है; जब वे इसे कहते हैं तो उनका पेट खराब हो जाता है। कुछ समय बाद उन्हें उल्टी होने लगती है और अंततः वे मर जाते हैं । चूहों के बिल के पास  गोबर की कुछ मात्रा रखें इसे खाते ही वे मर जाते हैं।

Recommended For You

About the Author: Kusum Kaushal

कुसुम कौशल ने उत्तराखंड में स्थित विश्वविद्यालय (हेमवती नंदन बहुगुणा यूनिवर्सिटी) से इकोनॉमिक्स में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। हिंदी उनकी मूल भाषा है।
Translate »