detox food डिटॉक्स फूड्स - शरीर की प्राकृतिक सफाई
पढ़ने के लिए समय चाहिए: 3 मिनट

आहार में विषाक्त पदार्थ, कीटनाशक और पर्यावरण विषाक्त पदार्थ शरीर के टिशूज़ और कार्यों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। डिटॉक्स या डिटॉक्सिफिकेशन शरीर से उन विषाक्त पदार्थों जो शरीर के टिशूज़ और अंगों के अंदर गहरे रूप में जमा होते हैं, को खत्म करने में मदद करता है, ताकि आंतरिक और बाहरी स्वास्थ्य उत्तम बना रहे।

शरीर के अंदर की सफाई और डिटॉक्सिफाइंग हानिकारक आहार, रासायनिक और पर्यावरणीय विषाक्त पदार्थों को बेअसर करने और समाप्त करने की एक नेचुरल प्रक्रिया है। डिटॉक्सिफिकेशन हर तरह से लाभदायक होता है। शरीर से विषाक्त पदार्थों के हटने के बाद त्वचा चमकदार हो जाती है, पाचन तंत्र बेहतर काम करता है, शरीर हल्का महसूस करता है, दिमाग सकारात्मक और ऊर्जावान महसूस करता है। डेटोक्सिफिकेशन सिर्फ वजन कम करने के लिए नहीं है, यह शरीर को शुद्ध करने के लिए है।

जिन लोगों के शरीर में विषाक्त पदार्थ अधिक होते है, वे अक्सर सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, थकान और कब्ज की समस्या से पीड़ित होते हैं। 

पौधों पर आधारित खाद्य पदार्थ विशेष रूप से विटामिन, खनिज, फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट और यहां तक कि आवश्यक फैटी एसिड प्रदान करते हैं जो आंत, टिशूज़ और सेल्स को स्वस्थ रखते हैं, साथ ही कुछ बहुत ही जटिल ऐंज़ाइमों के माध्यम से पूरे शरीर के डीटॉक्स को प्रेरित करते हैं।

प्रतिदिन डेटॉक्स करने वाले ऐसे कई डिटॉक्स खाद्य पदार्थ हैं, जो पूरी प्रक्रिया का प्रभावी ढंग से साथ देते हैं। कुछ  “डिटॉक्स” फूड्स के बारे में हम यहाँ जानते हैं , जो शरीर की प्राकृतिक सफाई प्रणालियों को काम करने में मदद करते है –

1 .नींबू – नींबू सबसे शक्तिशाली “डिटॉक्सिफाइंग खाद्य पदार्थों” में से एक है, नींबू विटामिन सी से भरपूर है। विटामिन सी एक महत्वपूर्ण एंटीऑक्सीडेंट है, कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है, यह पहले चरण के डिटॉक्सिफिकेशन के लिए आवश्यक कई पोषक तत्वों में से एक है, जो हानिकारक विषाक्त पदार्थों के असर को कम कर देता है। नींबू शरीर के एसिड-एल्कलाइन संतुलन को बनाने में भी मदद करता है। 

2. सेब – सेब में सॉल्युबल फाइबर पेक्टिन की मात्रा अधिक होती है, जो विषाक्त पदार्थों को सोखने में मदद करता है और कोलन के माध्यम से वेस्ट  को प्रभावी ढंग से बाहर निकालता है। सेब में मैलिक एसिड और ग्लूकेरिक एसिड होता है, जो शरीर से एस्ट्रोजन जैसे रसायनों और हेवी मेटल्स को निकालने में मदद करता है। डिटॉक्सिफिकेशन को अधिकतम करने के लिए आहार में विभिन्न प्रकार के फाइबर को शामिल करना आवश्यक है।

3. लहसुन – लहसुन में सल्फर युक्त कंपाउंड्स होते हैं जो आंतों में हानिकारक बैक्टीरिया और यीस्ट से लड़ने में मदद करते हैं। लहसुन ग्लूटाथियोन के उत्पादन को बढ़ाकर शरीर की डिटॉक्सिफाइंग प्रक्रियाओं में भी सहायता करता है, जो शरीर के प्रमुख “डिटॉक्सिफाइंग” एंटीऑक्सिडेंट में से एक है।

4. अदरक – अदरक प्रकृति के सबसे प्रभावी एंटी इंफ्लेमेटरी खाद्य पदार्थों में से एक है, इसमें पाए जाने वाले कंपाउंड जिंजरोल के कारण यह डीटॉक्स को बढ़ावा देता है और पाचन में सुधार करता है। डीटॉक्स के लिए अदरक और नींबू की चाय अच्छा विकल्प है।

5. गोभी – पत्ता गोभी सबसे सस्ते डिटॉक्स खाद्य पदार्थों में से एक है।  पत्ता गोभी में ग्लूकोसाइनोलेट्स की उच्च मात्रा होने के कारण बहुत प्रभावी क्लीन्सिंग गुण होते हैं। पत्ता गोभी में विटामिन K और विटामिन C भी अधिक होता है और कैलोरी बहुत कम होती है।

6. ग्रीन टी – ग्रीन टी में पाए जाने वाले पॉलीफेनोल्स एंटीऑक्सिडेंट डिटॉक्सिफिकेशन की प्रक्रिया को बढ़ावा देते हैं। ग्रीन टी में एपिगैलोकैटेचिन-3-गैलेट भी होता है, जो एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट है, यह लीवर को विषाक्त पदार्थों से होने वाले नुकसान से बचाता है, एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के ऑक्सीडेशन को रोकता है, हृदय रोग और कुछ प्रकार के कैंसर को रोकने में मदद करता है। 

7. चुकंदर -चुकंदर  पोटेशियम, फोलेट, एंटीऑक्सिडेंट और फाइबर जैसे “डिटॉक्सिफाइंग” पोषक तत्वों से भरपूर  होते हैं। चुकंदर में बीटाइन पाया जाता है, एक कम्पाउंड जो इंफ्लेमेशन के स्तर को कम करने में सहायक है, लीवर को नुक्सान से बचाता है।  इसमें एंटीऑक्सिडेंट बीटासायनिन भी होता है, जिसके कई स्वास्थ्य लाभ है। यह एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सिडेंट और डिटॉक्सिफिकेशन सपोर्ट प्रदान करता है।

8. धनिया – जहाँ एक ओर धनिए के बीज पाचन में मदद करते हैं और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को सामान्य बनाए रखने में मदद करते हैं, वहीं इसकी पत्तियों को सीसा (lead) और मरकरी जैसी मेटल्स को डिटॉक्सीफाई करने के लिए जाना जाता है, जो समय के साथ शरीर में जमा हो सकते हैं।

9. पालक – पालक में कैलोरी कम होती है, लेकिन यह पोषक तत्वों से भरपूर होती है। पालक में विटामिन ए, सी, ई, और के, साथ ही थियामिन, फोलेट, कैल्शियम, आयरन और मैग्नीशियम होते हैं। पालक में पाया जाने वाला फ्लेवोनोइड्स एंटीऑक्सिडेंट कोलेस्ट्रॉल को शरीर में ऑक्सीडेशन से बचाने में मदद करते हैं।

10. अलसी – फाइबर से भरपूर अलसी कई बीमारियों को दूर रखने में मदद करती है और इसके पोषक तत्वों का मिश्रण शरीर की आंतरिक सफाई में मदद करता है। चूंकि अलसी में सॉल्युबल और इनसॉल्युबल  दोनों तरह के फाइबर होते हैं, इसलिए ये कब्ज़ की समस्या नहीं होने देते हैं। 

Kusum Kaushal
Kusum Kaushal
इंग्लिश टू हिंदी ट्रांसलेटर और ब्लॉगर : ....और जानें
Translate
error: Sorry, the content is protected !!