घर पर कैसे करें दूध की शुद्धता की जांच

दूध हमारे दैनिक आहार का हिस्सा है, खासकर हमारे बच्चों का। लेकिन हमें नहीं पता की जो दूध हम ले रहे हैं वो शुद्ध है या नही, इसमें यूरिया, फॉर्मेलिन, स्टार्च और पानी की मिलावट हो सकती है। प्रतिष्ठित ब्रांडों के पैक दूध के साथ-साथ दूध-विक्रेताओं से खरीदे गए दूध में भी मिलावट हो सकती है, इसलिए दूध का परिक्षण करना आवश्यक है।

दूध में मिलावट के लिए परीक्षण निम्न तरीकों का उपयोग करके घर पर किया जा सकता है;

 

  • शुद्धता परीक्षण – 2-3 घंटे के लिए धीमी आंच पर दूध उबालें जब तक कि यह खोआ न बन जाए। पत्थर जैसा सख्त , कठोर खोए का मतलब है, दूध मिलावटी है जबकि नरम खोए का मतलब दूध अच्छी क्वालिटी का है।
  • सिंथेटिक दूध की जाँच – प्राकृतिक दूध में केमिकल और साबुन जैसी चीजों को मिलाकर सिंथेटिक दूध बनाया जाता है। सिंथेटिक दूध को केवल उसके खराब स्वाद से जाना जा सकता है। हाथों में रगड़ने पर यह साबुन जैसा महसूस होता है और गर्म होने पर पीला हो जाता है।
  • दूध में पानी की जाँच – दूध में पानी आपकी सेहत के लिए खतरनाक तो नहीं होता है, पर आपकी जेब के लिए महंगा है, आप पानी के लिए दूध का मूल्य दे रहे हैं। जांच करने के लिए अपने हाथ या किसी भी ढलान वाली सतह पर दूध की एक बूंद डालें और इसे नीचे आने दें। यदि दूध पीछे का रास्ता छोड़ देता है, तो यह शुद्ध नहीं है और अगर पीछे धार दिखती रहती है तो दूध अच्छा है।.
  • दूध में स्टार्च – यदि आपके विक्रेता ने दूध में स्टार्च मिलाया है, तो आप इसे 5 मिली दूध में दो बड़े चम्मच आयोडीन डालकर पता लगा सकते हैं। अगर दूध में मिलावट है, तो मिश्रण नीला हो जाएगा.
  • दूध में फार्मालिन – फार्मालिन का उपयोग संरक्षण (लम्बे समय तक ख़राब ना होने ) के उद्देश्यों के लिए किया जाता है। चूंकि यह रंग में पारदर्शी है और लंबे समय तक दूध को ख़राब नहीं होने देता है, पैक किए गए निर्माता मिलावट प्रयोजनों के लिए इसका उपयोग करते हैं। दूध का परीक्षण करने के लिए टेस्ट ट्यूब में 10 मिलीलीटर दूध लें और उसमें सल्फ्यूरिक एसिड की 2-3 बूंदें डालें। यदि एक नीले रंग का गोला ऊपर की ओर दिखाई देता है, तो दूध में मिलावट है।
  • दूध में यूरिया – सबसे सामान्य दूध में मिलावट यूरिया की मिलावट है, क्योंकि इसके मिलाने से दूध का स्वाद नहीं बदलता है और इसका पता लगाना भी मुश्किल है। दूध में यूरिया की जांच के लिए आधा चम्मच दूध और सोयाबीन (या अरहर) पाउडर को एक साथ मिलाएं और अच्छी तरह से हिलाएं। पांच मिनट के बाद, तीस सेकंड के लिए लिटमस पेपर डुबोएं और अगर वह लाल से नीले रंग में बदलता है, तो इसका मतलब है कि दूध में यूरिया है।

इन मिलावटों का स्वास्थ्य पर खतरनाक प्रभाव पड़ता है, इसलिए कृपया प्रयोग किये जाने वाले दूध के बारे में जागरूक रहें क्योंकि यह हमारे आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

Recommended For You

About the Author: Kusum Kaushal

कुसुम कौशल ने उत्तराखंड में स्थित विश्वविद्यालय (हेमवती नंदन बहुगुणा यूनिवर्सिटी) से इकोनॉमिक्स में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। हिंदी उनकी मूल भाषा है।
Translate »