multani mitti मुल्तानी मिटटी त्वचा के लिए संजीवनी
पढ़ने के लिए समय चाहिए: 3 मिनट

  • मुल्तानी मिट्टी त्वचा और बालों की देखभाल के लिए सबसे अच्छे और सस्ते उत्पादों में से एक है। मुल्तानी मिट्टी त्वचा और बालों के लिए प्रकृति का उपहार है। यह मुँहासे, दाग , तैलीय और बेजान त्वचा के लिए एक प्राकृतिक समाधान है। मुल्तानी मिट्टी त्वचा से अतिरिक्त तेल को हटाने में मदद करती है।
  • इसमें क्लींजिंग और कूलिंग प्रॉपर्टी होती है, जिसके कारण यह त्वचा से अतिरिक्त गंदगी को हटा देती है।
  • इसके अस्ट्रिन्जन्ट और एंटी माइक्रोबियल गुण मुँहासे को ठीक करने में मदद करते हैं। मुहासों के लिए मुल्तानी मिट्टी को गुलाब जल के साथ मिलाकर त्वचा पर लगाया जा सकता है।
  • तैलीय त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी को गुलाब जल में मिलाकर लगाना चाहिए और रूखी त्वचा के लिए दूध, शहद या दही के साथ प्रयोग करना चाहिए। इसका त्वचा या बालों पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता।
  • मुल्तानी मिट्टी बालों में चमक लाती है और बालों को झड़ने से रोकती है। यह स्केल्प को साफ करने और रूसी को ठीक करने में भी मदद करती है। बालों को घना करने के लिए इसे जैतून या नारियल के तेल के साथ भी लगा सकते हैं।

ऑयली त्वचा के लिए

मुल्तानी मिट्टी अपने शुष्क और ठंडे गुणों के कारण त्वचा पर अत्यधिक ऑयल को कम करने और पीएच स्तर को संतुलित करने में मदद करती है। यह बड़े रोमछिद्रों के उपचार में भी सहायक है।

1 चम्मच मुल्तानी मिट्टी लें गुलाब जल की कुछ बूँदें मिलकर पेस्ट बना लें इसे चेहरे पर लगाएं और 10-15 मिनट तक सूखने दें फिर सादे पानी से चेहरे को धो लें।  

रूखी त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी

मुल्तानी मिट्टी रूखी त्वचा के लिए उतनी ही प्रभावी होती है, जितनी तैलीय त्वचा के लिए। 

एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी में एक चम्मच शहद और दो चम्मच गुलाब जल मिलाकर पेस्ट तैयार करें। पेस्ट  लगाने से पहले अपने चेहरे को  फेस वाश से धोएं। पेस्ट को चेहरे पर 15 – 20   मिनट के लिए लगा रहने दें फिर हल्के गुनगुने पानी से धो लें। 

कील – मुंहासों के लिए मुल्तानी मिट्टी

पिंपल्स के लिए उपयोग की जाने वाली सबसे अच्छी चीज मुल्तानी मिट्टी है। 

 पिंपल्स के लिए एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी, चंदन पाउडर, शहद और ओट्स  में एक चुटकी हल्दी और फिर गुलाब जल मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे पूरे चेहरे पर लगाएं और 30 मिनट के लिए छोड़ दें। जब यह सूख जाए तो इसे हल्के हाथों से धीरे धीरे धो लें। यह चेहरे से मुंहासों से छुटकारा पाने का एक प्राकृतिक तरीका है।

स्किन  टैनिंग या हाइपरपिग्मेंटेशन

हाइपर पिग्मेंटेशन जब त्वचा गर्मी या धूप के संपर्क में आने से स्किन टैन हो जाती है। मुल्तानी मिट्टी त्वचा को ठंडक देती और टैनिंग और हाइपरपिग्मेंटेशन को कम करने में मदद करती है।

1 चम्मच मुल्तानी मिट्टी लें उसमे थोड़ा दूध मिलाकर चिकना पेस्ट बना लें, इसे पूरे चेहरे और गर्दन पर लगा लें,10-15 मिनट तक के लिए सूखने दें ,फिर सादे पानी से धो लें। 

बालों के लिए मुल्तानी मिट्टी

मुल्तानी मिट्टी माइल्ड होती है जिसके कारण इसका उपयोग विभिन्न हेयर पैक तैयार करने में किया जाता है। यह बालों और स्कैल्प से एक्स्ट्रा तेल को साफ़ करती है । इसे हेयर मास्क के रूप में लगाने पर  यह बालों के लिए एक बेहतरीन कंडीशनर भी है।

बालों का झड़ना रोकती है 

मुल्तानी मिटटी बालों के झड़ने से रोकने में मदद करती है।मुल्तानी मिट्टी में स्कैल्प को डिटॉक्सीफाई और साफ करने की क्षमता होती है, जिससे बालों को दोबारा उगाने में मदद मिलती है। यह डैंड्रफ को भी दूर करती  है, जो बालों के झड़ने का मुख्य कारण है।

मुल्तानी मिट्टी में दूध या गुलाब जल मिलाकर चिकना पेस्ट बना लें, इसे स्कैल्प और बालों पर लगाएं और 30 मिनट तक लगा रहने दें, फिर बालों को गुनगुने पानी से धो लें। बेहतर परिणाम के लिए इस उपाय को हफ्ते में 2-3 बार इस्तेमाल करें। 

चमकदार त्वचा पाने के लिए मुल्तानी मिटटी 

मिनरल्स से भरपूर मुल्तानी मिट्टी को पेस्ट के रूप में त्वचा पर लगाने से चेहरे पर चमक आती है और त्वचा निखरी निखरी लगती है।

2 चम्मच मुल्तानी मिट्टी में 4 चम्मच ठंडे संतरे के रस को मिलाकर फेस पैक तैयार करें और  चेहरे पर लगाएं  20 मिनट बाद ठंडे पानी से धो लें।

त्वचा के निखार के लिए मुल्तानी मिट्टी और हल्दी 

मुल्तानी मिट्टी को हल्दी के साथ मिलाने से त्वचा पर जादुई प्रभाव पड़ता है। टमाटर का रस और चंदन पाउडर के साथ दोनों को मिलाकर बनाया गया फेस पैक एक अद्भुत क्लींजर के रूप में कार्य करता है, जो चेहरे को तुरंत चमक देता है।

Anju Mangy
Anju Mangy
पाक कला, रेसिपी और नैचरल ब्यूटी सम्बन्धी विषयों की जानकार: ....और जानें
Translate
error: Sorry, the content is protected !!