सर्दियों में शकरकंद खाने के फायदे

सर्दियों का मौसम आ गया है, इस मौसम में बहुत सारे स्वादिष्ट फल और सब्जियों की बहार आती है। सर्दियों का मौसम पालक, चुकंदर, आंवला और सरसों का साग इत्यादि लेकर आता है। सर्दियों का मौसम शकरकंद भी लाता है। शकरकंद न केवल स्वादिष्ट होता है, बल्कि इसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। शकरकंद विटामिन, मिनरल्स,आहार फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है।

इस लेख में जानते हैं कि शकरकंद को आहार में क्यों शामिल करना चाहिए।

1. शकरकंद में महत्वपूर्ण विटामिन होते हैं

शकरकंद में विटामिन ए भरपूर होता है ( बीटा-कैरोटीन के रूप में ), यह विटामिन सी और विटामिन बी 6 का भी एक अच्छा स्रोत। केवल एक मध्यम आकार का शकरकंद लगभग विटामिन ए के दैनिक मूल्य का 100% से अधिक, विटामिन सी के दैनिक मूल्य का 25% और विटामिन बी 6 के दैनिक मूल्य का 19% प्रदान करता है। 

2. शकरकंद आवश्यक मिनरल्स प्रदान करते हैं

मिनरल्स विटामिन की तरह ही आवश्यक हैं, मध्यम आकार का एक शकरकंद मैंगनीज के दैनिक मूल्य का 25%, तांबे के दैनिक मूल्य का 20% और पोटेशियम के दैनिक मूल्य का 12% प्रदान करता है। हड्डी के स्वास्थ्य को बढ़ाने और रक्त शर्करा को नियंत्रित करने के लिए पर्याप्त मैंगनीज प्राप्त करना महत्वपूर्ण है, तांबा हमारे शरीर को लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने जैसे विभिन्न कार्यों में मदद करता है, पोटेशियम द्रव संतुलन बनाने, मांसपेशियों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए आवश्यक है। 

3. शकरकंद वर्कआउट के बाद की थकान दूर करने में मदद करता है

लंबे समय तक दौड़ने या जिम सेशन के बाद यदि शरीर को पोषण देना चाहते हैं, तो पोस्ट-वर्कआउट स्नैक में शकरकंद को शामिल करना एक अच्छा विकल्प है। ऐसा इसलिए है क्योंकि शकरकंद पोटेशियम का एक बड़ा स्रोत है, जिसमें अनुशंसित दैनिक मूल्य का 15 प्रतिशत होता है। पोटेशियम एक इलेक्ट्रोलाइट है। हमारे आहार में इलेक्ट्रोलाइट द्रव संतुलन और सामान्य रक्तचाप बनाए रखने के लिए आवश्यक हैं, शकरकंद में मौजूद मैग्नीशियम मांसपेशियों की कार्यप्रणाली में भी मदद करता है।

4. शकरकंद ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करता है

इसमें पाए जाने वाले पोषक यौगिक रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। शकरकंद में बड़ी मात्रा में आहार फाइबर होता है, जो रक्त शर्करा को बिल्कुल भी नहीं बढ़ाता है।

5. प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है 

शकरकंद एंटीऑक्सीडेंट बीटा-कैरोटीन का एक बड़ा स्रोत हैं। यह बीटा-कैरोटीन शरीर में इसे विटामिन ए में बदलने में मदद करता है। संक्रमण से लड़ने के लिए इम्यूनिटी को बढ़ावा देने के लिए विटामिन ए आवश्यक है। यह गट सिस्टम को भी स्वस्थ रखता है और प्राकृतिक गट फ्लोरा को संतुलित रखता है।

6. शकरकंद आँखों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा है

शकरकंद का आंखों के स्वास्थ्य से भी संबंध है – और यह विटामिन ए की प्रचुरता के कारण है। शकरकंद इस पोषक तत्व का एक उत्कृष्ट स्रोत है।

7. पाचन में सुधार करता है

कब्ज और दस्त जैसे पाचन संबंधी समस्याओं के लिए शकरकंद का सेवन करना अच्छा होता है। शकरकंद में घुलनशील फाइबर होता है, जो  सहज मल त्याग में मदद करता है। फाइबर का यह घुलनशील रूप अच्छे आंत बैक्टीरिया बनाने में मददगार होता है। 

8. दिल के स्वास्थ्य के लिए अच्छा है

पोटेशियम से भरपूर शकरकंद खून में सोडियम को कम करके रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह दिल के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। शकरकंद  एलडीटी या खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में  मदद करता है।

9. मस्तिष्क के कार्य को बढ़ाता है

शकरकंद सामान्य मस्तिष्क क्रिया के लिए फायदेमंद है। कुछ पशु अध्ययनों में पाया गया है कि शकरकंद में एंथोसायनिन इन्फ्लेमेशन को कम करके और मानसिक गिरावट को रोककर मस्तिष्क की रक्षा करता है।

10. त्वचा को निखारने में मददगार 

शकरकंद विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई और एंटीऑक्सीडेंट का एक समृद्ध स्रोत है। विटामिन सी और विटामिन ई त्वचा और बालों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं। विटामिन सी कोलेजन बनाने में मदद करता है, जो त्वचा का मुख्य संरचनात्मक प्रोटीन है। कई अध्ययनों से यह भी पता चला है कि विटामिन सी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। इसका मतलब है कि यह विटामिन मुँहासे जैसे त्वचा रोगों को ठीक करने में मदद करता है।

धूप से क्षतिग्रस्त त्वचा के उपचार में विटामिन ए आवश्यक है। हमारी त्वचा को चमकदार और युवा बनाने के लिए ये सभी पोषक तत्व त्वचा के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं।

11. शकरकंद स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद करता है

द जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित शोध के अनुसार, अधिक आहार फाइबर खाने से वजन घटाने में मदद मिलती है। 

12. हड्डियों को स्वस्थ रखता है 

मस्तिष्क, आंत, हृदय और मांसपेशियों के साथ साथ शकरकंद हड्डियों को स्वस्थ रखने में भी सहायक है, क्योंकि इसमें कैल्शियम होता है।

Recommended For You

Avatar

About the Author: Kusum Kaushal

कुसुम कौशल ने उत्तराखंड में स्थित विश्वविद्यालय (हेमवती नंदन बहुगुणा यूनिवर्सिटी) से इकोनॉमिक्स में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। हिंदी उनकी मूल भाषा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »