विटामिन ई क्यों महत्वपूर्ण है

विटामिन ई एक पोषक तत्व है, जो कोशिकाओं को हानिकारक मुक्त कणों से बचाने में मदद करता है, मुक्त कण कई बीमारियों का कारण बनते हैं। विटामिन ई शरीर को कीटाणुओं से लड़ने में भी मदद करता है और रक्त वाहिकाओं को खुला रखता है, थक्कों को साफ करता है।

ज्यादातर लोगों को अपने आहार से पर्याप्त मात्रा में विटामिन ई मिल जाता है। लेकिन कुछ लोगों में कई कारणों से इसका स्तर कम पाया जाता है, कई बार शरीर के लिए इसे संसाधित करने के लिए आवश्यक विटामिन या फैट को एब्सॉर्ब करना कठिन होता है। यह आनुवंशिक समस्याओं या कई बीमारियों के कारण हो सकता है।

विटामिन ई एंटीऑक्सीडेंट का एक बेहतरीन स्रोत होने के कारण इसके कई फायदे हैं। इस विटामिन की लगातार कमी से कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं, जैसे कि कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया, न्यूरोलॉजिकल और न्यूरोमस्कुलर समस्याएं, हेमोलिटिक एनीमिया और रेटिनोपैथी।

विटामिन ई की कमी से होने वाली समस्याएं

यदि समय पर इसका इलाज नहीं किया जाता है, तो लक्षण बढ़ सकते हैं, आँखों की रोशनी जा सकती है, सोचने की क्षमता कम हो सकती है , हृदय रोग या नसों की स्थायी क्षति हो सकती है।

डिसरथ्रिया

यह बोलने संबंधी विकार है, इसमें शब्दों का उच्चारण करने में कठिनाई होती है।

मायोपैथी

यह मांसपेशी संबंधी समस्या है, जिसमें पेशी तंतु ( muscle fibres)  सुचारू रूप से कार्य नहीं करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप मांसपेशियों में ऐंठन और अकड़न होती है।

 रेटिनोपैथी

एक नेत्र रोग है,जो आंख के रेटिना में रक्त के असामान्य प्रवाह के कारण होता है।  जिसके कारण आँखों की रौशनी ख़राब हो सकती है।  

हेमोलिटिक एनीमिया

पहले से ही एनीमिया से पीड़ित लोगों में एक प्रकार का रक्त विकार, यानी शरीर में लाल रक्त कोशिका की सामान्य मात्रा से कम होना। हेमोलिसिस तब होता है जब लाल रक्त कोशिकाएं बनने की तुलना में तेजी से नष्ट हो जाती हैं।

विटामिन ई के खाद्य स्रोत

प्रकृति ने हमें विटामिन ई से भरपूर प्राकृतिक खाद्य स्रोत प्रदान किए हैं, जो विटामिन ई की हमारी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा करते हैं।

  1. हरी सब्जियां – जैसे पालक, ब्रोकली, एवोकाडो, हरी बीन्स, शिमला मिर्च आदि।

2. टमाटर, शलजम, जैतून, एवोकाडो इत्यादि 

3. फल – आम, रास्पबेरी, क्रैनबेरी और कीवी इत्यादि ।

4. सूखे मेवे – बादाम, हेज़लनट, मूंगफली, ब्राज़ील नट्स आदि।  

5. पौधों के तेल जैसे सूरजमुखी का तेल, मकई का तेल, गेहूं के बीज का तेल, सोयाबीन का तेल आदि।

विटामिन ई के मुख्य लाभ

विटामिन ई से भरपूर खाद्य पदार्थों के सेवन को निम्नलिखित कुछ स्वास्थ्य लाभों से जोड़ा गया है।

कोलेस्ट्रॉल संतुलित रखता है 

अध्ययनों से पता चला है कि विटामिन ई के कुछ आइसोमर्स एक सुरक्षात्मक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में काम करते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल ऑक्सीकरण से लड़ता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि विटामिन ई शरीर में मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से रक्षा करता है, जिससे कोलेस्ट्रॉल का ऑक्सीकरण होता है।

 फ्री रेडिकल्स से लड़ता है और रोग से बचाता है

मुक्त कण शरीर में हृदय रोग और कई बीमारियों का खतरा बढ़ाते हैं। विटामिन ई शरीर में मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से रक्षा करता है।

हार्मोन संतुलित रखने में मदद करता है 

विटामिन ई अंतःस्रावी तंत्र ( endocrine system) और तंत्रिका तंत्र (nervous systems) को संतुलित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो स्वाभाविक रूप से हार्मोन को संतुलित रखने का काम करते हैं।

दृष्टि में सुधार

विटामिन ई आंखों को नुकसान से बचाता है और उम्र के साथ होने वाले जोखिम को कम करने में मदद करता है। दृष्टि के लिए प्रभावी होने के लिए विटामिन ई का सेवन विटामिन सी, बीटा-कैरोटीन और जिंक के पर्याप्त सेवन के साथ भी किया जाना चाहिए।

मांसपेशियों को मज़बूत बनाता है

यह ऊर्जा को बढ़ाता है, व्यायाम करने के बाद  मांसपेशियों पर ऑक्सीडेटिव तनाव के स्तर को कम करता है और मांसपेशियों की ताकत को बढ़ाता है।  यह खून के दौरे को बढ़ावा देता है और थकान को कम करने में मदद करता है।  

त्वचा के लिए लाभदायक 

विटामिन ई केशिका की दीवारों को मजबूत करके और नमी व लोच में सुधार करके, शरीर के अंदर प्राकृतिक एंटी-एजिंग पोषक तत्व के रूप में कार्य करके त्वचा को लाभ पहुंचाता है।

इसका उपयोग निशान, मुँहासे और झुर्रियों के इलाज के लिए किया जा सकता है। इससे त्वचा स्वस्थ और जवान दिखती है।

बालों को घना बनाता है

विटामिन ई तेल त्वचा में प्राकृतिक नमी को बरकरार रखता है, जो स्कैल्प को रूखा और परतदार होने से बचाता है। यह तेल बालों को स्वस्थ बनाता है।

Recommended For You

Avatar

About the Author: Kusum Kaushal

कुसुम कौशल ने उत्तराखंड में स्थित विश्वविद्यालय (हेमवती नंदन बहुगुणा यूनिवर्सिटी) से इकोनॉमिक्स में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। हिंदी उनकी मूल भाषा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »