एक बुरी आदत को छोड़ने में कितना समय लगता है ?

हम सभी की कुछ बुरी आदतें होती हैं। जैसे की कुछ लोग अपने नाखून चबाते हैं, कुछ आलसी होते हैं, कुछ अपने काम पर अक्सर देर से पहुँचते हैं, कुछ देर तक सोते रहते हैं, कुछ जब तनाव में होते हैं तो सिगरेट इत्यादि पीते हैं, हालांकि जो लोग सफलता की ऊंचाइयों पर होते हैं, उनमें भी बुरी आदतें होती हैं। यह इंसान होने का एक हिस्सा है।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम अपनी उन आदतों को बदलना नहीं चाहते। निरंतर आत्म-सुधार मानव होने का एक और गुण है। तो हम इन आदतों को क्यों अपनाते हैं, जबकि हम जानते हैं कि वे बुरी हैं?

आदतें क्यों विकसित होती हैं ?

आदत तब विकसित होती है, जब हम किसी विशेष चीज को लगातार करते हैं, चाहे वह अच्छा हो या बुरा। हमारा मस्तिष्क इन आदतों (अच्छी या बुरी ) को चुनता है और उन्हें स्वचालित बना देता है। इनमें से बहुत सी आदतें अनजाने में बनती हैं।

कई बार तनाव, चिंता, ऊब, या अन्य भावनात्मक अवस्थाओं से निपटने के लिए बुरी आदतें विकसित होती हैं। ये आदतें खराब या नकारात्मक भावनाओं से अस्थायी राहत प्रदान करती हैं। 

उदाहरण के रूप में जैसे की मस्तिष्क कोई तनावपूर्ण घटना को याद करता है और तब आप आइसक्रीम खाते हैं तो आप तुरंत बेहतर महसूस करते हैं। अगली बार जब आप तनावग्रस्त हों, तो आपका मस्तिष्क आपको तनाव से बाहर निकलने के लिए आइसक्रीम खाने की याद दिला सकता है। 

हमारा पर्यावरण और हमारे आस-पास के लोग हमारी आदतों को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यदि हमारे मित्र, परिवार या सहकर्मी कुछ बुरी आदतों में संलग्न होते हैं, तो हम भी उन्हें अपनाने के इच्छुक हो सकते हैं। यह सामाजिक प्रभाव बुरी आदतों को सामान्य बता सकता है या अपनेपन की भावना पैदा कर सकता है, जिससे उनसे अलग होना कठिन हो जाता है।

अच्छी और बुरी दोनों तरह की आदतें बार बार दोहराने और कंडीशनिंग के माध्यम से बनती हैं। जब हम किसी विशेष संदर्भ में बार-बार किसी व्यवहार को करते हैं, तो हमारा मस्तिष्क तंत्रिका मार्ग बनाता है जो भविष्य में उस व्यवहार को दोहराना आसान बनाता है। यह बुरी आदतों को तोड़ना चुनौतीपूर्ण बना सकता है क्योंकि वे हमारी दिनचर्या में गहराई से शामिल हो जाती हैं।

ऐसा नहीं है की बुरी आदतें स्थायी होती हैं या इन्हे बदलना असंभव है। आत्म-जागरूकता, लक्ष्यों को निर्धारित करके, नई दिनचर्या बनाकर और समर्थन जैसी रणनीतियों से बुरी आदतों से मुक्त होना संभव है।

एक आदत को बदलने में कितना समय लगता है?

किसी आदत को छोड़ने में लगने वाला समय कई कारकों पर आधारित होता है, जिसमें स्वयं व्यक्ति, आदत और इसे छोड़ने में किया गया समर्पण और प्रयास का स्तर शामिल है। इसकी कोई निश्चित समयरेखा नहीं है, आमतौर पर यह माना जाता है कि एक आदत को तोड़ने में औसतन 21 से 66 दिन लगते हैं।

21-दिवसीय नियम, जिसकी उत्पत्ति का पता डॉ. मैक्सवेल माल्टज़ के काम से लगाया जाता है, जो एक मनोवैज्ञानिक बनने से पहले एक प्लास्टिक सर्जन के रूप में काम करते थे। उन्होंने 1960 के दशक में साइको-साइबरनेटिक्स के बारे में अपनी पुस्तक में दावा किया था, हालांकि वह आदतों का इतना अधिक उल्लेख नहीं कर रहे थे, इसके बजाय यह बताते हुए कि कॉस्मेटिक सर्जरी कराने वाले रोगियों को शरीर के परिवर्तित भागों के आदी होने में लगभग 21 दिन लगते हैं। हालाँकि यह संख्या एक सामान्यीकरण है और हर किसी या हर आदत पर लागू नहीं हो सकता है।

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में फिलिप लैली और उनके सहयोगियों द्वारा किए गए शोध में पाया गया कि प्रतिभागियों को एक नई आदत स्थापित करने में औसतन 66 दिन लगे, लेकिन व्यक्तिगत समय 18 से 254 दिनों के बीच था।

आदत को छोड़ना एक प्रक्रिया है, जिसके लिए आत्म-जागरूकता, दृढ़ संकल्प और दृढ़ता की आवश्यकता होती है। इसमें पुरानी आदत को एक नए, स्वस्थ व्यवहार के साथ बदलना और इसे तब तक लगातार अभ्यास करना शामिल है जब तक कि यह स्वचालित न हो जाए। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि गहराई तक और लंबे समय से चली आदतों को बदलने में अधिक समय लग सकता है और इसके लिए अतिरिक्त प्रयास या पेशेवर सहायता लेने की आवश्यकता होती है।

ध्यान रहे, किसी आदत को छोड़ने की कुंजी निरंतर कोशिश करते रहना, असफलताओं का सामना करने पर भी सकारात्मक बने रहना है और तत्काल परिणामों की अपेक्षा करने के बजाय धीरे-धीरे प्रगति पर ध्यान केंद्रित करना है।

बुरी आदत कैसे छोड़ें 

आदत क्यों बदलना चाहते हैं, इसका कारण जाने  

आदत को छोड़ने के लिए, सबसे पहले यह जाने की आप इसे क्यों बदलना चाहते हैं, कारण जानने के लिए आत्म-खोज करें, यह प्रेरणा का एक शक्तिशाली स्रोत बन जाएगा।

छोटे प्रयास से शुरू करें 

व्यवहार परिवर्तन का प्रयास करते समय अक्सर लोग एक साथ बड़ा परिवर्तन करने का प्रयास करते हैं। 

उदाहरण के लिए – अक्सर लोग एक पूर्ण जीवनशैली बदलाव को अपनाना चाहते हैं और परिणामस्वरूप एक ही समय में बदलने के लिए बहुत सी आदतें चुन लेते हैं। यह दबाव, हतोत्साह और अंततः निराशा का कारण बन सकता है।

इसके बजाय छोटे से शुरू करें, यह सफलता की कुंजी है। 

जब हम चीजों को छोटे टुकड़ों में बांटकर पूरा करते हैं , तो यह हमें अच्छा महसूस कराता है और अच्छी आदतें बनाए रखने की इच्छा को मजबूत करता है,  धीरे धीरे प्रयास के स्तर को बढ़ा सकते हैं और अपने नए वांछित व्यवहार की ओर चुनौती दे सकते हैं। 

प्रयास में निरंतरता का लक्ष्य रखें, प्रयास को आसान बनाएं

अपनी क्षमताओं और जीवन शैली को ठीक करने के लिए अपने लक्ष्य तक पहुँचने के लिए प्रयास में निरंतरता के अलावा,  प्रयास स्तर को भी आसान रखें। 

उदाहरण के लिए – अपने व्यवहार को बदलने के लिए प्रयास के स्तर और चुनौती के स्तर को शून्य से दस के पैमाने पर देखें , शून्य का मतलब कोई प्रयास और चुनौती नहीं है और 10 अत्यधिक प्रयास और चुनौती है, शुरुआत में अपने प्रयास के स्तर को तीन या चार पर रखें फिर धीरे धीरे बढ़ाएं। 

मान लें यदि आप दिन में तीन घंटे सोशल मीडिया पर स्क्रॉल करते हैं और इसे घटाकर दिन में आधे घंटे तक करना चाहते हैं, तो पहले  2 घंटे 45 मिनट से शुरू करें, फिर अगले सप्ताह या इसके बाद इसे 2 घंटे 30 मिनट तक कम करें, अगले सप्ताह इसे घटाकर 2 घंटे 15 मिनट कर दें इत्यादि, इस प्रकार समय को एक बार में कम करने के बजाय धीरे धीरे काम करें। 

अपनी सफलताओं को पुरस्कृत करें  

आदतें तब बनती हैं जब किसी व्यवहार को किसी तरह से पुरस्कृत किया जाता है, नई आदतें बनाने का एक अच्छा तरीका यह है कि अच्छे व्यवहार के लिए खुद को पुरस्कृत किया जाए। 

सबसे सफल इनाम वह होता है, जो वांछित व्यवहार के तुरंत बाद दिया जाता है, जो कुछ ऐसा है जिसे हम वास्तव में चाहते हैं या आनंद लेते हैं।

उदाहरण के लिए, यदि आप काम के लिए देर से आने की आदत को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं, तो जब तक आदत बदल नहीं जाती, तब तक आप हर दिन समय पर पहुंचने पर खुद को एक कप स्वादिष्ट कॉफी या (जो भी आपको पसंद है) से पुरस्कृत कर सकते हैं।

माइंडफुलनेस का अभ्यास करें

आदतों को सफलतापूर्वक बदलने के लिए माइंडफुलनेस अभ्यास की आवश्यकता होती है। माइंडफुलनेस जागरूकता है, जो ध्यान देने के माध्यम से, वर्तमान क्षण में मूल्यांकन किये बिना उत्पन्न होती है। बुरी आदत को छोड़ने के लिए माइंडफुलनेस के स्तर को बढ़ाएं। 

बुरी आदत को एक अच्छी आदत से बदलें

किसी व्यवहार को रोकना थोड़ा कठिन है, इसके स्थान पर बुरी आदत को एक अच्छी आदत से बदलें। अध्ययनों से पता चला है कि जितना अधिक आप अपने विचारों को दबाते हैं, उतनी ही अधिक संभावना है कि आप उस विचार के बारे में सोचेंगे या उस बुरी आदत पर वापस लौटेंगे।

Recommended For You

Avatar

About the Author: Kusum Kaushal

कुसुम कौशल ने उत्तराखंड में स्थित विश्वविद्यालय (हेमवती नंदन बहुगुणा यूनिवर्सिटी) से इकोनॉमिक्स में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। हिंदी उनकी मूल भाषा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
Table of Content