सकारात्मक ऊर्जा (Positive Energy)और सोच को कैसे अपनाएं  

हम सभी अपनी रोज़मर्रा की जिंदगी में कई लोगों से मिलते हैं बातें करते हैं, लेकिन कुछ लोगों का औरा (aura) इतना सकारात्मक होता है कि मात्र उनके संपर्क में आने से ही हम भी तरो ताज़ा और सकारात्मक महसूस करने लगते हैं। 

हम सभी ऐसे व्यक्तियों का साथ चाहते हैं, जो सकारात्मक ऊर्जा बिखेरते हैं। पॉजिटिव एनर्जी या पॉजिटिव सोच वाले व्यक्ति स्वाभाविक रूप से दूसरों को आकर्षित करते हैं और लोगों को सहज महसूस कराते हैं। कुछ लोगों के लिए शांतिपूर्ण और सकारात्मक दृष्टिकोण का प्रसार करना आसान होता है, कुछ को इसका अभ्यास करना पड़ता है। आपके द्वारा दी जाने वाली ऊर्जा न केवल अन्य लोगों के साथ आपकी बातचीत को निर्धारित करती है, बल्कि यह भी बताती है कि आप अपने बारे में कैसा महसूस कर रहे हैं।

यह वह कौशल है जिसका निश्चित रूप से अभ्यास किया जाना चाहिए। जब हम अपनी मानसिकता को बदलना शुरू करते हैं, तो हम रास्ते में आने वाले कई अद्भुत अवसरों को देखना शुरू कर देते हैं और हल्का भी महसूस करने लगते हैं।

सकारात्मक ऊर्जा पाने के लिए कुछ सुझाव

1. सबसे पहले स्वयं को प्राथमिकता बनाएं

यदि आप अपने बारे में अच्छा महसूस करते हैं, तो वह आंतरिक संतोष आपके बाहरी व्यक्तित्व में झलकता है। अपना ख्याल रखें और अपनी छोटी छोटी चीजों की देखभाल करने की आदत डालें यह अच्छा महसूस कराती हैं। जो व्यक्ति आंतरिक रूप से प्रसन्न और संतुष्ट होता है, वही दूसरों को भी ऐसा महसूस करा सकता है।  

2. अपने आस पास के वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा वाली वस्तुएं रखें

अपने घर या काम करने के स्थान पर अच्छी वाइब और सकारात्मक ऊर्जा की वस्तुएं रखें। यह हाई-वाइब आर्ट, मूर्तियाँ, पौधे, क्रिस्टल, या तस्वीरें हो सकती हैं, जिन्हें आप पसंद करते हैं। जो कुछ भी आपके चेहरे पर मुस्कान लाता है, वह आपको अच्छी वाइब्स देगा।

जब आप निराशावादी लोगों के साथ समय बिताते हैं तो आप उदास और परेशान महसूस करते हैं, जब आप आशावादी लोगों के साथ होते हैं तो अच्छा महसूस होता है। विज्ञान बताता है कि मानव हृदय मूड की आवृत्तियों को प्रोजेक्ट करता है जो उनके आस-पास के लोगों को प्रभावित करती है।

हर उस व्यक्ति से बचा नहीं जा सकता जो खराब वाइब्स प्रोजेक्ट करता है, लेकिन मौका मिलने पर सकारात्मक लोगों के साथ रहना चुना जा सकता है।

3. विचारों को सकारात्मक रखें क्यूंकि वे अधिक सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करते हैं

सकारात्मक सोचने से न केवल अच्छी वाइब्स बढ़तीं हैं, बल्कि यह और भी सकारात्मक विचारों को आपकी ओर आकर्षित करतीं हैं। यह नकारात्मक विचारों पर भी लागू होता है, इसलिए अपने विचारों पर ध्यान देना शुरू करें और नकारात्मक ऊर्जा और विचारों को पास ना आने दें। 

सकारात्मकता पर ध्यान दें क्योंकि हम जिस पर ध्यान केंद्रित करते हैं वह बढ़ता है। हमारा जीवन भले ही कठिनाइयों से भरा हो, लेकिन उसमें सकारात्मक गुण मौजूद हैं।

उनका निरीक्षण करें, मानसिक रूप से उन्हें अपने दिमाग में तब तक घुमाएं जब तक कि वे दिमाग में बस ना जाएँ, आप उनकी उपस्थिति महसूस करेंगे।

4. वर्तमान में जीएं 

वर्तमान में रहने पर हम इस बात को जानते हैं कि हम कैसा महसूस कर रहे हैं, और उसके अनुसार समायोजित कर सकते हैं – तभी हम अपनी ओर अधिक सकारात्मक ऊर्जा आकर्षित कर सकते हैं। जब हम मानसिक तौर पर पूरी तरह से वर्तमान में उपस्थित होते हैं, तो हम अपने विचारों और कार्यों में हाई वाइब्स लाने के लिए आवश्यक परिवर्तन कर सकते हैं।

5. व्यवहार में प्रेम, सहानुभूति एवं नम्रता रखें  

जब हम प्रेम, सहानुभूति की ऊर्जा में रहते हैं तो हमेशा अधिक सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करते हैं और जीवन में उच्च वाइब्स वाले लोगों व स्थितियों को आकर्षित करते हैं। प्रेम की ऊर्जा के साथ तालमेल बिठाएं न कि भय, संदेह और चिंता की, हर स्थिति में एक प्रेमपूर्ण और सकारात्मक समाधान के बारे में सोचें। यदि हम ऐसा करते हैं, तो हम उच्च वाइब्स वाली ऊर्जा प्राप्त करेंगे और हमारे सामने अधिक संभावनाएं और समाधान उपलब्ध होंगे।

6. ऐसे कार्यों के लिए वक्त निकालें जो आपको खुशी देते है

ऐसे कार्य छोटे या बड़े जो वास्तव में आपको आनंद देते हैं उनके लिए समय निकालें। जैसे की बागवानी करना, अच्छी किताब पढ़ना, कोई वाद्य बजाना, किसी प्रकार की कलाकारी करना इत्यादि। 

7. सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाने के लिए मैडिटेशन करें

अपनी श्वास पर ध्यान दें। गहरी सांसें लेने की कोशिश करें। अपने विचारों पर ध्यान दें। आपका मन अनिवार्य रूप से भटकने वाला है। जब भी अपने विचारों को भटकते हुए देखें तो धीरे से अपना ध्यान अपनी सांस पर वापस लाने पर ध्यान दें। जो भी विचार आ रहे हैं आने दें उनका विश्लेषण करने का प्रयास न करें, बस अपने दिमाग को वापस अपनी गहरी सांस लेने के लिए निर्देशित करें। 

8. कृतज्ञता का अभ्यास करें

अपने जीवन में हर चीज के लिए कृतज्ञता का भाव रखें।  सभी चीजें बड़ी और छोटी – क्योंकि कृतज्ञता सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने का सबसे तेज़ तरीका है। हमारे जीवन में हमारे पास जो अच्छी चीजें हैं, उनके लिए कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए खुद को याद दिलाना है। 

9. क्रोध और आक्रोश से दूर रहें 

आक्रोश नकारात्मकता को बढ़ाता है, हो सकता है कि घटनाएं हमेशा अच्छी न हों, लेकिन उन पर ध्यान न दें। यदि आक्रोश जैसी नकारात्मक भावनाएँ उत्पन्न होती हैं, उन्हें दूर करने की कोशिश करें।

10. नापसंद चीज़ों को अनदेखा करें

जीवन के उन पहलुओं को अनदेखा करने के लिए अपने दिमाग को प्रशिक्षित करें जिन्हें आप बदल नहीं सकते। जैसे , दूसरों के व्यवहार को जिन्हे आप नहीं बदल सकते उन्हें अपने लिए महत्वहीन बना लें, तो अन्य लोग आपको परेशान नहीं कर सकते। घटनाओं को अपने मूड को नियंत्रित ना करने दें। आपके पास अपनी भावनात्मक स्थिति का प्रभार लेने की शक्ति है।

जब आप अपना ध्यान उन चीजों से हटा देते हैं जो आपको पसंद नहीं हैं, तो वे आपकी भावनाओं को प्रभावित नहीं करेंगी, बस इसके लिए अपने दिमाग को प्रशिक्षित करने की जरूरत है।

11. अपने मन को सकारात्मकता को आकर्षित करने के लिए तैयार करें

सोने से ठीक पहले और सुबह उठते ही, आपका दिमाग सुझाव के लिए तैयार होता है, इसलिए इन अवसरों का उपयोग सकारात्मकता को लेने के लिए करें। पॉजिटिव एफर्मेशन और विचार आप सुन भी सकते हैं या आपके दिमाग में चुपचाप दोहरा सकते हैं और सकारात्मक दृष्टिकोण पैदा कर सकते हैं।

12. तत्काल (instant ) क्षमा करने का अभ्यास करें

आक्रोश से बचने का एक और तरीका है तत्काल क्षमा का अभ्यास करना। यह बात समझ लें कि हर व्यक्ति अपनी चेतना और ज्ञान के स्तर के हिसाब से व्यवहार करता है, तो आप उनसे उनकी पेशकश से अधिक की उम्मीद नहीं कर सकते। उन्हें बदलने की कोशिश करने से उन्हें क्षमा करना आसान है।

इन सुझावों को अपनाकर सकारात्मक बनेंगे। आप सकारात्मक तरीके से सोचेंगे, अनुभव करेंगे और कार्य करेंगे। आप घटनाओं को सकारात्मक नज़रों से देखेंगे। आशावादी लोग आपकी ओर आकर्षित होंगे।

यह भी जानें – जानें क्रोध (anger )कैसे हमारे स्वास्थ्य को हानि पहुंचाता है।

Recommended For You

Avatar

About the Author: Kusum Kaushal

कुसुम कौशल ने उत्तराखंड में स्थित विश्वविद्यालय (हेमवती नंदन बहुगुणा यूनिवर्सिटी) से इकोनॉमिक्स में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। हिंदी उनकी मूल भाषा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
Table of Content