जानें सर्दियों में मूंगफली खाने के फायदे

moongfali ke faide जानें सर्दियों में मूंगफली खाने के फायदे
पढ़ने के लिए समय चाहिए: 5 मिनट

सर्दियाँ शुरू होते ही कुछ चीजों का हम बेसब्री से इंतज़ार करते हैं। जैसे की, गच्चक, रेवड़ी, खजूर और मूंगफली इत्यादि। इन सब में से मूंगफली हर किसी को बेहद पसंद आती है। इसके फ़ायदों की एक लंबी लिस्ट बन सकती है। इस लेख में मूंगफली से संबंधित फ़ायदों को जानते हैं। 

मूंगफली में कार्ब्स कम होते हैं। ये पोषक तत्वों से भरपूर होती है । मूंगफली प्रोटीन का बहुत बढ़िया स्रोत है। मूंगफली में बायोटिन, नियासिन, फोलेट, मैंगनीज, विटामिन ई, थियामिन, फॉस्फोरस और मैग्नीशियम होते हैं, जो स्वस्थ शरीर और स्वस्थ दिमाग के लिए बहुत जरूरी होते हैं।

मूंगफली को कुछ आवश्यक पोषक मूल्यों के लिए जाना जाता है। जैसे कि हृदय रोग के जोखिम को कम करना, वजन को नियंत्रित रखना, रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर करना, पाचन क्रिया में वृद्धि करना आदि। सर्दी के मौसम में ज्यादातर सभी भारतीय घरों में मूंगफली का सेवन किया जाता है।

नीचे हम  मूंगफली के कुछ बेहतरीन स्वास्थ्य लाभों की चर्चा कर रहें हैं। स्वस्थ पोषक तत्व प्राप्त करने के लिए आप किसी भी रूप में मूंगफली का सेवन कर सकते हैं जैसे की  चिक्की बना कर, भुनी हुई मूंगफली, भीगी हुई मूंगफली इत्यादि।

मूंगफली दिल और नसों के रोगों के लिए, अल्जाइमर रोग के लिए अच्छी होती है और संक्रमण से बचाती है

मूंगफली, मुख्य रूप से कैंसर, हृदय रोग, नर्वस / न्यूरोलॉजिकल रोगों और वायरल या किसी भी प्रकार के फंगल संक्रमण को रोकती है। इसमें मौजूद रेसवेराट्रोल नामक एंटी-ऑक्सीडेंट शरीर में नाइट्रस ऑक्साइड के उत्पादन को बढ़ाता है, जिससे  स्ट्रोक की संभावना कम होती  है।

मूंगफली में कार्ब्स नहीं होते हैं

महिलाओं में जीवन के विभिन्न चरण वजन बढ़ाने का कारण बनते हैं। जैसे गर्भावस्था या हार्मोनल परिवर्तन, अवसाद ,रजोनिवृत्ति के बाद , अध्ययन किया गया है और पाया गया है कि जो महिलाएँ सप्ताह में कम से कम दो बार अपने आहार में मूंगफली को शामिल करती हैं, उनका वजन जो नहीं लेतीं उनके मुकाबले कम बढ़ता है। मोटापे से दूर रहने के लिए नियमित रूप से मूंगफली खाने की सलाह दी जाती है। 

मूंगफली में प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं 

मूंगफली में  प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट प्रचुर मात्रा में होते है और इसमें आहार फाइबर की भी उच्च मात्रा होती है। अपने दैनिक आहार में भुनी या किसी भी प्रकार में  या पीनट बटर आदि खाद्य पदार्थों को शामिल करें।

मूंगफली से हड्डियों स्वस्थ रहतीं है और ऊर्जा मिलती है।

मूंगफली के मक्खन (पीनट बटर) में पाए जाने वाले आयरन और कैल्शियम की प्रचुर मात्रा रक्त में ऑक्सीजन पहुंचाने और हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत रखने में सहायक हैं। मूंगफली ऊर्जा प्रदान करती है। ये हमारे शरीर को विटामिन, खनिज, और एंटी-ऑक्सीडेंट प्रदान करती है। 

मूंगफली डिप्रेशन और तनाव की समस्या को कम करने के लिए लाभदायक है। 

अवसाद का मुख्य कारण सेरोटोनिन स्तर का कम होना है। मूंगफली में मौजूद ट्रिप्टोफैन ऐसे रसायनों को बढ़ाता है और अवसाद और तनाव से लड़ने में मदद करता है। यह माना जाता है कि इन बीमारियों को दूर रखने के लिए नियमित मूंगफली का सेवन करना चाहिए। 

अल्जाइमर जैसी न्यूरोडीजेनेरेटिव बीमारियों से बचाती है। 

मूंगफली में नियासिन अधिक मात्रा में होता है और जो लोग नियासिन से भरपूर खाना खाते हैं यानी विटामिन बी 3 से उनमे स्मृति संबंधी विकार जैसे अल्जाइमर रोग होने की संभावना कम होती है। यह न्यूरोडीजेनेरेटिव कोशिकाओं  (neurodegenerative cells ) को ठीक करने में मदद करता है। 

मूंगफली कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद करती है

रोजाना मुट्ठी भर नट्स जिसमे मूंगफली भी शामिल है , के सेवन से दिल की बीमारियों का खतरा कम हो सकता है। मूंगफली स्वास्थ्य के लिए  एक अच्छा स्नैक (snack )माना जाता है और इसमें स्वास्थ्य के लिए अच्छे माने जाने वाले मोनोअनसैचुरेटेड फैट , विटामिन बी पाए जाते हैं ।

मूंगफली पेट के स्वास्थ्य के लिए अच्छी होती है

मूंगफली में उच्च मात्रा में पॉली-फेनोलिक जैसे ऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं। इसमें कार्सिनोजेनिक नाइट्रस-एमाइन के उत्पादन को कम करके पेट के कैंसर के खतरे को कम करने की क्षमता होती है।

बृहदान्त्र (colon )सम्बन्धी समस्याओं के लिए फायदेमंद 

मूंगफली का सेवन करने से महिलाओं में कोलन कैंसर होने का खतरा 58% और पुरुषों में 27% कम होता है।

मूंगफली ब्लड शुगर रेगुलेटर का काम करती है। 

मूंगफली का नियमित सेवन मैंगनीज के माध्यम से कैल्शियम, फैट और कार्बोहाइड्रेट को एब्सॉर्ब  करने में मदद करता है , जो मूंगफली में पाया जाता है। यह शरीर में रक्त शर्करा ( ब्लड शुगर ) के स्तर को नियंत्रित करता है।

मूंगफली के त्वचा के लिए लाभ

 मूंगफली में उच्च स्तर के एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो इसे उबालने पर अधिक सक्रिय हो जाते हैं। Genistein में चार गुना और Biochanin-A नामक एंटी-ऑक्सीडेंट में दोगुना वृद्धि हो जाती है। ये त्वचा में मुक्त कणों के कारण होने वाले नुक्सान को कम करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप त्वचा स्वस्थ होती है। इसलिए जहाँ एक ओर मूंगफली भूख को संतुष्ट करती है, वहीं त्वचा को जवान रखने में भी मदद करती है।

मूंगफली कुछ प्रकार के त्वचा विकार के लिए भी अच्छी होती  है, यह सोरायसिस और एक्जिमा जैसी त्वचा की समस्याओं को दूर करने में मदद करती है। मूंगफली में एंटी-बैक्टीरियल गुण वाले मल्टीविटामिन होते हैं जो त्वचा की देखभाल के लिए अच्छे होते हैं। मूंगफली का तेल स्किनकेयर के लिए भी उपयोग कर सकते हैं जो त्वचा को हानिकारक यूवी किरणों से बचाता है। मूंगफली में ओमेगा 3 फैटी एसिड की सही मात्रा होती है जो स्किनकेयर में विभिन्न तरीकों से मदद करती हैं।

ज्यादा मूंगफली खाने के साइड इफेक्ट्स और एलर्जी

बहुत अधिक मूंगफली खाने से मिनरल्स के अवशोषण (absorption )में बाधा उत्पन्न हो सकती है। जो भोजन ग्रहण किया जाता है , उसका पोषण मूल्य कम कर देती है।

मूंगफली के संदूषण (contamination ) से एफ्लाटॉक्सिन नामक विषाक्त पदार्थों का उत्पादन हो सकता है। इससे  पीलिया और यकृत की समस्या हो सकती है। 

कई लोगों को मूंगफली से एलर्जी होती है। यह एलर्जी उनके लिए गंभीर रूप ले सकती है। उन लोगों को सलाह दी जाती है की वे  मूंगफली और मूंगफली से बने पदाथों को खाने से बचें। 

जिन लोगों को गॉलब्लेडर की पथरी है, उन्हें मूंगफली न खाने की सलाह दी जाती है।

यदि आप नमकीन मूंगफली खरीदते हैं, तो आप ज्यादा मूंगफली खाने के साथ साथ अधिक सोडियम भी खाएंगे जो हाई बीपी का कारण बन सकता है । यदि आप सीमित मात्रा में  मूंगफली खाते हैं तो आप इसके स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करेंगे। 

गुड़ खाने के फायदे तो बहुत से लोग जानते हैं, लेकिन गुड़ के साथ मूंगफली खाने के फायदे बहुत कम लोगों को पता होंगे। यहाँ हम गुड़ और मूंगफली एक साथ खाने से होने वाले लाभ जानेंगे। 

1. ठंड के मौसम में गुड़ और मूंगफली मिलाकर खाना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। शोध के अनुसार, ठंड के मौसम में गुड़ और मूंगफली शरीर को गर्म और ठंडा होने से बचाती है। ठंड की चपेट में नहीं आने देती।

2. गुड़ और मूंगफली का एक साथ सेवन करने से , कोलेस्ट्रॉल का स्तर नियंत्रण में रहता है और दिल की बीमारियाँ नहीं होती हैं। 

3 . महिलाओं के लिए गर्भावस्था के दौरान गुड़ और मूंगफली का सेवन सेहत के लिए अच्छा माना जाता है, इससे ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है और ब्लड प्रेशर सामान्य बना रहता है।

4  . मूंगफली में सेलेनियम और गुड़ में मैग्नीशियम व् आयरन होता है, जो प्रजनन संबंधी समस्याओं को दूर करता है और मांसपेशियों को मजबूत बनाता है।

5 . गुड़ और मूंगफली हीमोग्लोबिन को बढ़ाते हैं। गुड़ में भरपूर मात्रा में आयरन होता है जो एनीमिया से बचाता है, मूंगफली में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो खून की अशुद्धियों को दूर करते हैं।

6 . मूंगफली में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है, जबकि गुड़ में पोटैशियम, मैग्नीशियम, जिंक और आयरन के तत्व होते हैं, जो पेट से संबंधित बीमारियों को दूर करते हैं और पाचन में सुधार करते हैं। 

Kusum Kaushal
Kusum Kaushal
इंग्लिश टू हिंदी ट्रांसलेटर और ब्लॉगर : ....और जानें
Translate
error: Sorry, the content is protected !!